गर्भवास्था अठारह सप्ताह | 18 week pregnancy in hindi

इस सप्ताह - 18 week pregnancy क्या क्या होगा



इस हफ्ते शिशु को उसकी पहचान मिल जाएगी, मतलब उसके यूनिक फिंगर आ जायेंगे।

Myelin शिशु को सुरक्षित व गर्म रखने के लिए उसके चारों ओर बनने लगा, जो जन्म होने तक विकसित होगा

इस सप्ताह शिशु के जननांग पूरी तरह बन गए होते हैं। 



Pregnancy 18 week मतलब - 5 महीना

Second trimester मतलब - दूसरी तिमाही

22 weeks left मतलब - 22 सप्ताह बचे



शिशु का विकास | child development at 18 week pregnancy in hindi


18-week-pregnancy-in-hindi


अभी आप गर्भावस्था के 18 सप्ताह में पहुंच चुकी है, जहां माता और शिशु में अनेकों बदलाव हो रहे होते है शिशु की लम्बाई 14 cm तथा उसका वजन 0.14 से 0.18 kg तक है तथा आपकी प्रेगनेंसी को अभी 22 सप्ताह बचे है। 



शिशु का जम्हाई लेना


वैसे तो शिशु पहले के मुकाबले काफी बड़ा हो चुका हैं। पर यह सब महसूस करने जैसे - उसका घूमना, लात मारना आने वाले कुछ सप्ताह में आप यह भी महसूस करने लगेंगी।


लेकीन इस सप्ताह की सबसे अनोखी चीज जो शिशु सीखता है " जमाई लेना " अब तो baby हिचकी और जमाई लेने में माहिर हो गया है जिसे कुछ समय बाद आप महसूस भी करने लगेंगी।



शिशु अब मैच्योर बन रहा


आप इसे देख तो नहीं सकती, लेकिन धीरे-धीरे आपको पता चलने लगेगा आपके शिशु का दिमाग, जब आप 18 week Pregnant होती है तब यह तेजी से बढ़ने लगता हैं।


मतलब दिमाग के नर्व सेलस जो सूचनाओं का आदान प्रदान करते वह भी तेजी से विकसित होने लगे है। तथा शिशु के सुनने और देखने की क्षमता भी विकसित होने लगी है। अलग-अलग आवाजों के प्रति उसकी चेतना बढ़ने लगी है।



जल्दी विकास


अब यह लड़की है या लड़का ? 18 week pregnancy में शिशु के जनानंग लगभग विकसित हो चूके होते है। शिशु अभी छोटे खीरे के जितना बढ़ा हो गया है और आपका गर्भाशय शकरकंद के जितना


गर्भावस्था में आपका पेट | 18 week Pregnant belly in hindi


जब आप 18 week Pregnant हो जाती है आप प्रेग्नेंट दिखने लगती है क्योंकि आपका गर्भाशय और शिशु दोनों तेजी से बढ़ लगे है


लेकिन याद रखें सभी गर्भवतियों की प्रेगनेंसी अलग होती है इसलिए यदि आपको प्रेगनेंसी बैली ना दिख रही हो तो चिंता ना करे यह बिल्कुल समान्य ही है। 


कुछ गर्भवतियों का पेट बहुत ज्यादा निकल जाता हैं तो कुछ का अभी साफ नजर नहीं आता। इसलिए 18 week pregnancy belly बिल्कुल सामान्य रहता हैं आप चाहे तो अपने निरीक्षक से इसपर चर्चा कर सकते हैं।


आपका पीठ दर्द


कुछ ऐसा जो आप जोरो से महसूस कर रही होंगी - " पीठ में दर्द " गर्भाशय के बढ़ने से शरीर संतुलन बनाने के लिए पीठ कर्व के समान मुड़ने लगता जिससे पीठ दर्द होता हैं। 


एक तरीका आप दर्द कम करने के लिए अपना सकती है। आराम करते वक्त पैरों को थोड़ा ऊपर उठा लेना, जब आप खड़ी हो तो एक पैर छोटे स्टूल पर रख ले इससे कुछ प्रेशर रिलीज हो जायेगा। वॉर्म बाथ लेना भी आपकी इसमें मदद कर सकता है।



हार्ट बर्न होना



कई बार टोस्ट का एक छोटा टुकड़ा भी आपके पेट में आग लगाने के लिए काफी रहता है। जो आपके हार्ट बर्न का कारण भी बनता है। इससे बचाव के लिए आप कुछ तरीके अपना सकती है। 


खाना खाते समय आपको उसे अच्छे से चबा कर तथा थोड़ा-थोड़ा कर के खाना चाहिए। अपने रात के खाने को दोपहर के खाने जैसा बनाने से बचे। छोटे मिल्स और स्नैक्स ले। 



गर्भावस्था के लक्षण | 18 week pregnancy symptoms in hindi


फेटल मूवमेंट


यदि आप पेट में कुछ होता महसूस अथवा कुछ आवाजे सुनती होंगी - तो आने वाले कुछ समय में आपको शिशु के गर्भ में मूवमेंट भी महसूस होने लगेंगी। लेकिन चिंता ना करें यदि आपने कुछ महसूस ही नहीं किया होगा तो आपको अभी कुछ सप्ताह और लगेंगे।


ब्लोटिंग एंड गैस


गैस होने पर उसे रोकने की कोशिश करना उसे वापस अंदर ले जाएगा जो आपकी समस्या और बढ़ा देगा। इसलिए खुद को रिलैक्स करने की कोशिश करें।



लेग क्रैंप्स


शायद पिछली तिमाही में बार-बार टॉयलेट जाना और नींद खराब होना कम था जो इस दूसरी तिमाही में पैरो की वजह से परेशान पाएंगी। Experts तो अभी भी नहीं जानते ऐसा होने की वजह क्या है?    


कुछ महिलाएं बताती है मैग्निशियम सप्लीमेंट उनकी इसमें मदद करता है। जो उन्हे लेग क्रैंप्स से छुटकारा दिलाते हैं। लेकिन आपको किसी भी तरह का सप्लीमेंट लेने से पहले अपने डॉक्टर से इस बात पर चर्चा जरूर करना चाहिए।



ब्लीडिंग गम


यह आपके प्रेगनेंसी हार्मोन की वजह से होता है। जो आपके मुंह में सुजन ला देता हैं। जिससे आपको irritation or bleading gum होने लगता है।


इसलिए यह जरूरी होगा आप लगातार दो बार ब्रश करें और अपने दांतो में फंसे खाने को साफ करें। यह आपको periodontal डिजीज से भी बचाएगा। लेकीन ज्यादा जोर जबस्ती करने से बचें



पैरो में सूजन


जैसे ही आपके शरीर के टिशू body fluids सोख लेते हैं, आपकी प्रेग्नेंट बॉडी और शिशु में इसकी कमी होने लगती हैं। इसके कारण आपके पैरों में सूजन भी देखने को मिलती है।


इसके होने की वजह गुरूत्वाकर्षण को मान सकते है। जिसके कारण ही पैरो में fluids जम जाते हैं। इसलिए आपको ज्यादा देर खड़े रहने या बैठने से बचना चाहिए। आप अपने पैरो को ऊपर रख सकते हैं।



स्ट्रेच मार्क्स


अगर स्ट्रेच मार्क्स का दिखना आपको अच्छा महसूस नहीं कराता हैं तो आप अपने पार्टनर को बैली पर मोशुराइजर या लोशन लगाने को बोल सकती है और मसाज करने को भी बोल सकती हैं।



सेल्फ केयर टिप्स | self care tips in 18 week pregnancy in hindi


चक्कर आना समान्य


प्रेगनेंसी में प्रोजेस्ट्रोन के कारण रक्त प्रवाह आपके शिशु के लिए बढ़ जाता है जिसके कारण लो ब्लड प्रेशर और मस्तिष्क में रक्त प्रवाह कम होने से आपको चक्कर आने जैसी समस्या होने लगती है। इससे बचने के लिए आप आराम से अपना पोजीशन चेंज करें।



रिलेक्सीन हार्मोन के लिए तैयार


गर्भावस्था की दूसरी तिमाही में आपका शरीर रिलेक्सीन हार्मोन रिलीज करता हैं यही हार्मोन ligament को भी ढीला करता जो बोनस को संभाले रखता हैं। यही आपके पेल्विस में दर्द और हिप्स के बड़े होने का कारण बनता हैं 


भले अभी ये आपको दर्द दे रहा हो, लेकिन जब जन्म के समय शिशु का बड़ा सिर बाहर आएगा तब आप इसके लिए शुक्रगुजार रहेंगी।



अपने निरीक्षक से सवाल जवाब


अगर आपके मन में गर्भावस्था अथवा शिशु को लेकर सवाल उत्पन्न हो रहे होंगे तो यही अच्छा समय होगा, आप अपने निरीक्षक से जितनी मर्जी सवाल पूछ सकती हैं - दवाइयों, वैक्सीन, डिलीवरी आदि


आयरन की मात्रा


यदि आप शाकाहारी है तो आयरन की पूर्ति के लिए आपको सप्लीमेंट जरूर ट्राई करना चाहिए।


भोजन जैसे - बीन्स, सोया प्रोडक्ट, ओट्स, कादू बीज में आपको आयरन भरपूर मिल जाएगा लेकिन supliment लेना भी काफी मददगार रहेगा।


प्रेग्नेंट महिलाओं को 20 सप्ताह के बाद आयरन suppliment लेने की सलाह दी जाती है। यदि आपके आयरन की कमी हो तो आप इसे पहले ही ले सकती है।

 


सप्लीमेंट लेने से पहले सतर्क रहे


खासकर नेचुरल के नाम पर मिलने वाले सप्लीमेंट को लेने से बचें क्योंकि भले कंपनी इनके नेचुरल होने का दावा करती हो, जो इन्हे आकर्षित भी बनती है। लेकिन इन्हें किसी प्रकार से परीक्षण नहीं किया गया होता।


भले कुछ हर्बल प्रोडक्ट प्रेगनेंसी में बेनिफिट करते हो, लेकिन क्या पता प्रेगनेंसी के दूसरे समय यह बिल्कुल भी आपके लिए सेफ ना हो।



कसरत करते वक्त सावधान रहें


Pregnancy में नॉर्मल कसरत आपके लिए बिल्कुल भी उचित नहीं रहता। आपको कुछ स्पेशल एक्सरसाइज ही करनी चाहिए। 


एक्सपर्ट प्रैक्टिशनर के साथ एक्सरसाइज करने पर वे आपको उचित मूव्स रिकमेंड करेंगे। लेकिन यदि आप स्वयं ही इसका प्रयास करती है तो आपको कुछ मूव्स को बिल्कुल भी नहीं करना चाहिए।


बार बार ऊपर नीचे होना, कंधों, पीठ के बल लेटकर, साइकिल से दूर रहना ही बेहतर होगा। साथ ही घुटनों को मोड़ने और उछल कूद करने से बचना चाहिए।



शिशु की लात के लिए तैयार


शायद आपको अहसास ना हुआ हो लेकिन शिशु की लात आपने अलग-अलग तरीकों से महसूस किया होगा। शायद आपने इसे गैस या पेट का अन्य अहसास समझ लिया होगा।


ये उन महिलाओं को और आसानी से पता चलेगा जो पतली है इसमें बेबी का पोजीशन भी निर्भर करता है जन्म का समय दूर होना भी इसका कारण हो सकता है। इसलिए चिंता ना करे यदि आपको कुछ अहसास ना हुआ हो तो।


Hindiram के कुछ शब्द

18 week pregnancy in hindi - इस सप्ताह बहुत से बदलाव हुए है लेकिन अभी pregnant women को अनेकों बदलाव का सामना करना है। इस लिए अपना ध्यान जरूर रखें

और नया पुराने