गर्भावस्था छब्बीसवा सप्ताह | 26 week pregnancy in hindi

इस सप्ताह - 26 week pregnancy क्या-क्या होगा

26-week-pregnancy-in-hindi


  • शिशु अब अपनी पलकों को दिखाकर आपको चौकाने वाला है मतलब उसकी पलकें अब खुलने वाली है। 
  • नाखून भी आने लगें है ये बहुत तेज और नुकिले भी होते, आप जन्म के बाद इसे महसूस कर सकेंगी
  • निगलने की प्रैक्टिस शिशु बड़े जोरो-शोरो से कर रहा हैं वैसे ये बेहतर स्वास्थ के लिए जरूरी भी है।


26 सप्ताह गर्भावस्था - मतलब आप दूसरी तिमाही के लगभग अन्तिम चरण में पहुंच चुकी है तीसरी तिमाही की शुरुआत करने को है… 

इस सप्ताह शिशु अपनी प्यारी आंखें खोलने वाला है प्रेग्नेंसी के लक्षणों की बात करें तो, 26 सप्ताह होने पर भी आपका पीछा नहीं छोड़ेंगे - प्रेगनेंसी इंसोमिया, थकावट, प्रेगनेंसी बैली का बढ़ना  

26 वीक प्रेगनेंसी मतलब - 6 माह गर्भावस्था
2nd trimester मतलब - दूसरी तिमाही 
14 weeks to go मतलब - 14 सप्ताह बचें


शिशु का विकास | child development at 26 week pregnancy in hindi



26 सप्ताह आते तक शिशु पहले के मुकाबले काफी विकसित हो चुका होता है खासकर इस सप्ताह शिशु अपनी आंखें खोलने वाला है।

शिशु का वजन लगभग ( 0.91 kg ) तक हो गया है। उसकी लंबाई भी 36 सेंटीमीटर तक बढ़ चुकी है।


26 सप्ताह गर्भावस्था में शिशु कितना बड़ा रहता


क्या आप बता सकते हैं इस सप्ताह शिशु का विकास किस प्रकार होगा - अब तो इसका वजन 2 पाउंड तक हो चुका है लंबाई भी 14 + इंच से ज्यादा है।

कुछ समय बाद शिशु के लिए गर्भाशय छोटा लगने लगेगा, लेकिन यहां चिंता की कोई बात नहीं, शिशु के विकास के लिए अन्दर अभी बहुत जगह है। मतलब बस यही है उटपटांग हरकतों के लिए जगह कम पड़ने वाली है।


शिशु की आंख खुलेगी


कुछ माह पहले शिशु की जो आंखे बन्द हुई थी ताकी उसके रेटीना तथा आंख के अन्दर वाले अंग जो देखने ( चित्र बनाने ) में मदद करते हैं विकसित हो सकें, 26 सप्ताह गर्भवास्था में खुलने लगती है।

इसका मतलब ये कि आपका शिशु अब देखने के काबिल हो चुका है वैसे गर्भाशय के अंदर का दृश्य उतना रोमांचक नहीं होता...

लेकिन उसकी लात का पता आप इस प्रकार लगा सकती है। अपनी प्रेगनेंसी बैली पर फ्लैश लाइट जलाए, देखना शिशु प्रतिक्रिया के रूप में लात जरूर मरेगा। 
मानो वह फ्लैशलाइट जलाने से आपको मना कर रहा है

इस वक्त आयरिश जो आंखो को उसका नेचुरल कलर प्रदान करता है। उसमे अभी पिग्मेंटेशन कि कमी है जो आने वाले कुछ महीनों में भर जाएंगे, लेकिन अभी उसके आंखों का रंग पता लगाना काफी मुश्किल है

यहां तक कि शिशु किस रंग का पैदा होगा यह भी बता पाना मुश्किल रहता है। आप तब तक बस अंदाजा लगा सकती है जब तक वह बाहर ना आ जाए। लेकिन सबसे ज्यादा परिवर्तन 6 माह के बाद से ही होते है।


शिशु का मानसिक विकास


जाने और भी क्या-क्या हो रहा है आपके शिशु के साथ - भ्रूण विकास की इस अहम प्रक्रिया में शिशु का मानसिक विकास अब तेजी पकड़ रहा है मतलब शिशु सिर्फ आवाज सुनना ही नहीं बल्कि उसपर प्रतिक्रिया भी देने लगा है। अभी ज्यादा कुछ तो नहीं बस उसकी प्लस रेट और प्रतिक्रियाए बढ़ गई है। 


छब्बीस सप्ताह गर्भवास्था में आपका शरीर | your body at 26 week pregnancy



दूसरी तिमाही के मध्य और अंत के समय आपका बढ़ा हुआ गर्भाशय इतना बड़ा हो जाता है कि वह आपके पेट को बाहर ढकेलने लगता हैं। जिसके कारण गर्भवतियों की नाभि अक्सर बाहर निकल जाती है। 

 

नाभि का बाहर निकलना


जब आप छब्बीस सप्ताह की गर्भवती होती है मतलब आप अपनी प्रेगनेंसी के दो तिहाई हिस्से में है। आपका गर्भाशय नाभि से 2 ½ ऊपर होगा।

बाहर को निकला हुआ बैली बटन ( नाभि ) वैसे तो कोई फैशन नहीं, खासकर जब अपकी नाभि कपड़ो के बाहर दिखने लगे या टाइट कपड़ो पर उभरने लगे। लेकिन ये भी प्रेगनेंसी की निशानी है जो आपके लिए समझना आसान है।

वैसे तो अभी आपको गर्भवास्था का काफी लंबा सफर तय करना है लेकिन डिलीवरी के कुछ माह बाद सब पूरी तरह सामान्य हो जाएगा, मगर अभी सब ऐसा ही रहेगा।


Insomnia इनसोमिया


एक पूरी रातभर की नींद ( आराम ) यदि आपके लिए जरूरी है तो प्रेगनेंसी Insomnia कि दुनिया में आपका स्वागत है

हार्टबर्न, लेग क्रैंप्स, बार बार बाथरूम जाना और बढ़ी हुई नाभि और आपकी रातें, इसमें हैरान होने वाली बात बिल्कुल नहीं आपका शरीर खुद को शांत करने के लिए कितनी दिक्कतों का सामना कर रहा है

लेकिन एक अच्छी नींद के लिए आप बहुत सी तकनीके अपना सकती है जो एक अच्छी नींद लेने में आपकी सहायता करेगा जैसे - कसरत करना, ठंडी और ताजी हवा लेना, सोने से पहले कम से कम तरल लेना।

 

गर्भ में शिशु की हरकत


गर्भ में महसूस होने वाले सभी हलचलों को देखकर लगता होगा मानो आप एक दर्जन बच्चो को साथ रखी हुई है। शिशु उन सभी हरकतों की प्रैक्टिस कर रहा है जो आगामी जीवन में उसकी सहायता करेंगे। पेट पर चलने की प्रैक्टिस...

जैसे-जैसे शिशु का मस्तिष्क विकसित होते जाता है भ्रूण कि हरकतें लयबद्ध होने लगती हैं। गर्भ में शिशु के बढ़ने और ताकतवर होने से हरकतें भी ताकतवर हो जाती है

एक दूसरा तरीका जो आप ट्राई कर सकती हैं बैठते समय पैरों इतना बाहर फैलाना कि उस पर भार ना पड़े, अगली बार जब आप पोजिशन चेंज या खुद को स्ट्रेच करें आहिस्ता से आगे बढ़े, जिससे घुटनों पर कम दबाव पड़ता है तथा शिशु भी अपनी पोजीशन में आसानी से आ जाता है।


26 सप्ताह गर्भावस्था के लक्षण | 26 week pregnancy symptoms in hindi



ब्लॉटिंग और गैस 


लगातार बढ़ता हुआ गर्भाशय, पेट तथा अंतड़ियों पर प्रेशर जमाने लगता हैं जिससे उलटी होने जैसा महसूस होता है आप भोजन तीन कि जगह छह बार खाय तथा भोजन की मात्रा कम ही रखे, इससे पाचन तंत्र पर जोर नहीं पड़ेगा।


प्रेगनेंसी ब्रेन


क्या आप प्रेगनेंसी में बहुत आवश्यक चीज़ों को भी भूलने लगी है। ये सब आपके प्रेगनेंसी ब्रेन के कारण होता है वैसे इस समय मेमोरी क्षमता पर असर पड़ना सामान्य है। आप चीजों को लिखकर याद रखें ये आपको आगे की गर्भावस्था को सही से ऑर्गेनाइज करने में सहायता करेगा।


आलस आना


ज्वाइंट्स का लूज होना, शरीर का भार शिफ्ट होना तथा बढ़ा हुआ वजन भी कुछ ऐसे फैक्टर्स है जो आपको आलस से भर देते है। वैसे ये आलसीपन कुछ समय के लिए ही है आपको नहाते, चलते वक्त अधिक सावधान रहने की जरूरत है।


माईग्रेन - migraines


महिलाएं जिन्हें माइग्रेन की शिकायत होती रहती है गर्भावस्था में उन्हें ये कुछ ज्यादा ही परेशान कर सकता है। वहीं कुछ गर्भवतियों को इसकी चिंता करने की जरूरत नहीं होती,

लेकिन अपको घबराने की जरूरत नहीं यदि कुछ दिनों से ये आपको कुछ ज्यादा ही परेशान करने लगा है वैसे अभी के समय स्ट्रॉन्ग मेडिकेशन लेना बिल्कुल भी सुरक्षित नहीं होगा, इसके बदले आप एक्यूपंक्चर, बायो फीड बैक, मसाज, मेडिटेशन - योगा ट्राई करें, ये स्ट्रेस और माइग्रेन कम करनें में मदद करेगा।


आंखो का धुधलापन


अगर आपको आंखों में इरीटेशन होता है ऐसा इसलिए क्योंकि प्रेगनेंसी हार्मोन आंसू बनने को कम कर देते हैं। जिससे आंखों में सूखापन आने लगता है। आप आई ड्रॉप का उपयोग डिस्कंफर्ट दूर करने में कर सकती है। अगर आपको सीरियस विजन प्रॉबलम हो रहा है तो डॉक्टर की सलाह लेनी चाहिए। क्युकी ये प्रिकॉलेप्सिया का संकेत भी हो सकता है।


राउंड लाईगमेंट पेन


शरीर में दर्द बढ़ने का एक कारण बढ़ता हुआ गर्भाशय भी है इसे राउंड लाईगमेंट पेन भी कहते हैं। जो काफी दर्दभरा भी हो सकता हैं। खुद को जितना हो सके आराम दे, पोजीशन बदलते वक्त ज्यादा हरकत ना करें

 

सेल्फ केयर टिप्स - self care tips 26 week pregnancy in hindi


शिशु के बारे में सोचें


बच्चो के लिए बेबी प्रोडक्ट्स खरीदना बहुत तनावपूर्ण होता है वैसे ये उतना ही मजेदार ही रहता है। आप चाहे तो दूसरे माता पिता से बेबी प्रोडक्ट्स पर राए ले सकते हैं। वे आपको उन्हीं चीजों की सलाह देंगे जो बहुत जरूरी होते है। जिससे आप गैर जरूरी चीजों को खरीदने से बच जाएंगी


खाने को अच्छे से पकाए


जब बात मांसाहार की हो, अधपका भोजन गर्भवति के लिए नुकसान प्रद रहता हैं। खाना पकाते समय आपको यह भी ध्यान रखना चाहिए उसे इतना भी ना पकाए की उसमें मौजूद न्यूट्रिएंट्स खत्म होने लगें


थोड़ा एक्सरसाइज


शायद आपको तो पता ही होगा, गर्भवास्था में हल्का फुल्का एक्सरसाइज करना कितना फायदेमंद रहता है। चिंता मत करे आप अकेले बिल्कुल भी नहीं होंगी, शिशु के लात के साथ आप एक साथी पा लेंगी... 

इस बात का ध्यान रखें, सभी बेबी माता के एक्सरसाइज को अलग अलग रूप से प्रतिक्रिया देते है। कई बार मूवमेंट की वजह से शिशु सो भी जाता है। आप निरीक्षक से चर्चा करे की आपको कितना एक्सरसाइज करना चाहिए



सफाई करें


उन चीजों को अच्छी तरह से धोए जिनपर आपका हाथ सबसे पहले और अधिक जाता है। विवेकपूर्ण तरीके से खानो को छुए तथा अच्छे से बर्तनों को साफ रखें।

फलों को भी खाने से पहले अच्छे से धोए, उसे भी जिसे आप छिल कर खाते हैं। 



प्रैक्टिस गुड पोस्चर


बाहर को निकलते हुए पेट और दर्द भरे पीठ - खड़े रहने में समस्या पैदा करते है। खड़े रहने में समस्या पैदा करते हैं कोई बात नहीं आप सीधे खड़े हो जाए मगर चलते वक्त आपको कंधो को पीछे की ओर हल्का सा झुकना चाहिए। ये आपको प्रेगनेंसी पेन में सहायता करेगा।  


हानिकारक खाद्य पदार्थों से बचें


गर्भावस्था में ऐसी बहुत सी चीजे होती है जिनसे आपको परहेज करना चाहिए, जैसे बहुत से खाद्य पदार्थ - कच्चा और अधपका भोजन, इनका सेवन गर्भवती और शिशु दोनों के लिए नुकसान दायक होता है।


Hindiram के कुछ शब्द 


26 week Pregnancy in hindi : इस सप्ताह भी बहुत कुछ होगा जो शायद आप बाहर से महसूस ना करें लेकिन अंदर बहुत कुछ बदल जाएगा, आपको खुद की केयर करने की जरूरत है।

और नया पुराने