गर्भावस्था चौदह सप्ताह - शिशु विकास, गर्भावस्था लक्षण और केयर टिप्स | 14 week pregnancy in hindi

आज पूर्णरूप से आपने पहली तिमाही का सफर खत्म कर लिया हैं तथा दूसरी तिमाही के लिए भी तैयार हो गई है। इस एक तिहाई हिस्से अर्थात 14 week pregnancy के बाद का सफर काफी आसान रहने वाला हैं।






प्रेगनेंसी सिंप्टम्स ने मानो पीछा ही छोड़ दिया हो। पेट की ऐठन और उल्टी से भी छुटकारा मिल गया होगा। परन्तु यहां बस आपमें ही परिवर्तन नहीं आए, शिशु भी week 14 pregnancy में बिल्कुल बदल चुका होता हैं। आइए देखें कैसे ?


14 week pregnancy मतलब - 4 माह गर्भावस्था

2nd trimester मतलब - गर्भावस्था दूसरी तिमाही

26 week's to go मतलब - 26 सप्ताह बचें



चौदह सप्ताह गर्भावस्था - शिशु का विकास, प्रेगनेंसी सिंप्टम्स और देखभाल से जुड़ी जरूरी बाते | 14 week pregnancy in hindi



Here's quick summary


  • दूसरी तिमाही आने से शिशु अपने चेहरे के मसल्स यूज करने कि क्षमता पा लेता अर्थात मुंह बनाने और स्माइल करने लगता है।
  • इस सप्ताह शिशु के जननांग भी बनकर तैयार होंगे। हालांकि, डॉक्टर इसका पता नहीं लगा पाएंगे
  • शिशु के शरीर में अब कुछ बाल भी उगने लगते हैं। सर तथा आईब्रो बनने लगता



परन्तु यहां बस आपमें ही परिवर्तन नहीं आए, शिशु भी week 14 pregnancy में बिल्कुल बदल चुका होता हैं। आइए देखें कैसे ?


गर्भावस्था 14 सप्ताह मतलब - 4 महीना

First trimester - पहले तिमाही

बचे सप्ताह 26



शिशु का विकास | baby development in 14 week pregnancy in hindi


14-week-pregnancy-in-hindi


दूसरी तिमाही आने से शिशु अपने चेहरे के मसल्स यूज करने कि क्षमता पा लेता अर्थात मुंह बनाने और स्माइल करने लगता है।


Title : 








चौदह सप्ताह गर्भावस्था में शिशु का विकास | Baby development by week 14 pregnancy in hindi



चौदह सप्ताह में शिशु का आकार कितना हैं? - baby size at 14 week 


शिशु सीधा होना 



छोटी छोटी कोशिकाओं से जुड़कर शिशु अब एक संतरे के जितना हो गया हैं। अब तो यह खुद को हिलाने डुलाने भी लगा है। हालांकि, आप इसे महसूस तो नहीं कर सकती क्युकी ये अभी बहुत छोटा है।




परन्तु क्या आप जानती है शिशु अपने पैरो पर बिल्कुल सीधा खड़ा है। वह भी बिना किसी मदद के, हालांकि आप उसे खड़ा हुआ जन्म के साल भर बाद ही देख पाएंगी।




शिशु का गर्दन भी लंबा हो रहा है। जो उसके सिर को सीधा रखने में मदद करता है और उसे पूरी तरह सीधा बनाता है।




शिशु के बढ़ रहें बाल



जब आप 14 week Pregnant हो जाती है शिशु के शरीर में बाल निकलना प्रारंभ हो जाते है। हालांकि इनका रंग कैसा होगा कुछ कह नहीं सकते।




बालों का विकास सिर तक सीमित नहीं रहता, शिशु के चारो तरफ बालों का कवच रहता। इसे lanugo भी कहा जाता जो शिशु को गर्म रखने में अहम भूमिका निभाता है




जिनका शिशुओं का जन्म समय से पूर्व हो जाता, उनमें जन्म उपरांत इसकी परत बनी रहती, जो समय के साथ झड़ जाता है।




दूसरे विकास जो इस सप्ताह होंगे, शिशु के पाचन तंत्र अपना अपनी कार्य प्रणाली शुरू कर देता उसके आंत अब meconium बनाने लगते जो इसके पहले bowel movement में मदद करते।





चौदह सप्ताह में गर्भवती का शरीर | Your body at 14 week pregnancy in hindi


एक गया दो बचे



दूसरी तिमाही में आपका स्वागत है। यह बहुत से गर्भवतियों का मनपसंद महीना होता है। वैसे पहली तिमाही की तरह इस सप्ताह आपको परेशान करने के लिए प्रेगनेंसी सिंप्टम्स नहीं होंगे।


इस सप्ताह आप काफी आराम महसूस कर रही होंगी, शायद आपके ब्रेस्ट का दर्द भी काफी कम या गायब हो गया होगा। इसके साथ ही आप खुद को एनर्जेटिक भी महसूस कर रहे होंगे।


मॉर्निंग सिकनेस और बाथरूम की समस्या काफी कम हो चुका होगा। आपको मातृत्व कपड़े की शॉपिंग के विषय में अब सोचने की जरूरत है। क्युकी आपकी प्रेगनेंसी भी दिखने लगी है।


राउंड लिगामेंट पेन 



गर्भवतीयों में गर्भाशय का फैलना राउंड लिगामेंट पेन का कारण बनता है। आमतौर पर ये बढ़ती प्रेग्नेंसी के साथ अक्सर आते ही है।




आपको अपने पेट मे दोनों साइड और लोअर एबडोमेन में दर्द का अहसास हो सकता है। क्योंकि गर्भाशय एक मोटे बैंड के सपोर्ट रहता, जो पेट के दोनों साइड जुड़ा रहता। जैसे ही गर्भाशय फैलने लगता, खीचाव तथा दबाव के कारण ये पतला होने लगता। यही दर्द की वजह बनता हैं।




इसका पता आपको तब आसानी से पता चल जाएगा जब आप अचानक से अपना पोजीशन बदलती होंगी। इससे बचने का एक तरीका यह है आप पैरों पर रखे और आरामदायक पोजीशन में बैठे।






स्टे हेल्दी



भले आपको परेशन करने के लिए प्रेग्नेंसी सिंप्टम्स ना हो किन्तु अभी भी आपका इम्यून काफी कमजोर है। आप बाहरी जर्म्स के लिए सवेदनशिल हैं।




वैसे प्रेगनेंसी में इम्यून सिस्टम कमजोर होने का भी कारण है। प्रकृति ऐसा करके शिशु की सुरक्षा करती है। जिससे शरीर का इम्यून उसे बाहरी जीव समझ कर नुकसान ना पहुचां सके।




आपको हेल्दी रहना, खाना, पीना सब करना चाहिए। प्रेग्नेंसी में बाहरी जर्म से बचना ही बेहतर उपाय हैं।


इसलिए हाथों को धोते रहें, तथा अपनी चीजे बीमार व्यक्तियो से सांझा ना करे। जरूरी पड़ने पर डॉक्टर की मदद ले।




चौदह सप्ताह गर्भावस्था के लक्षण | Week 14 Pregnancy symptoms in hindi


कम थकान



अब आप काफी आरामदायक महसूस कर रही होंगी। जैसे आपमें नई ऊर्जा का संचार होने लगा हो। आपके शरीर ने पहली तिमाही पार कर ली हैं। जिसमें शिशु और प्लेसेंटा दोनो का निर्माण गया है। तथा ये अब विकसित हो रहे हैं।




स्तनों का बढ़ना 



हालंकि इस सप्ताह भी आपके ब्रेस्ट का बढ़ना तय है। लेकिन पिछली तिमाही में जैसे इनमें दर्द हुआ करता था वह भी अब गायब हो गया होगा।






भूख का बढ़ना



अब तक तो आपके ऐठन की समस्या जा चुकी होगी। लेकिन इसके साथ आत्याधिक भूख लगना भी शुरू हो गया होगा। इसलिए जितना होसके आप हेल्दी खाना खाने का प्रयास करे। जिससे शरीर का ब्लड शुगर लेवल और एनर्जी मेनटेन रहें।






पैरो की नसें



इन फुले हुए रक्त वहनियो से आपको डरने कि जरूरत नहीं, बल्कि इनका होना जरुरी रहता है इसके ज़रिए ही शिशु तक सही मात्रा में जरूरी पोषक तत्व पहुंचते है। वैसे अभी तो आप इनका कुछ कर भी नहीं सकती बस सपोर्टिंग ड्रेस पहन कर आप ब्लड सर्कुलेशन में मदद कर सकती हैं।




नाक का सुखना



इसके लिए भी आपके प्रेगनेंसी हार्मोन जिम्मेदार रहते हैं। शरीर में एस्ट्रोजन और प्रोजेस्ट्रोन का खून तथा मस्कज मेंब्रेन बढ़ा देते है। इससे नाक में भी सूजन सा हो सकता है। आप सोने से पहले humidifier का उपयोग कर सकती है।




उल्टी और ऐठन का खातमा



अगर आप बाकी गर्भवतियों की तरह होंगे, तो पेट की ऐठन और उल्टी ने आपका पीछा छोड़ दिया होगा। क्युकी अब आप दूसरी तिमाही में जो पहुंच चुकी है।





चौदह सप्ताह गर्भावस्था में पेट निकलना | Pregnant belly at 14 week pregnancy in hindi


क्योंकि अब आप पूरी तरह अपनी दूसरी तिमाही में पहुंच चुकी है। इसलिए सही होगा, आप मातृत्व कपड़े खरीदे। वैसे गर्भवती महिलाएं इस सप्ताह अपने लिए थोड़े बड़े साइज के कपड़े खरीदती है।


याद रखें, चाहे आपकी प्रेग्नेंसी बैली छोटी हो या बड़ी 14 week Pregnant में सब सामान्य है। वैसे प्रेग्नेंसी में बैली का बढ़ना गर्भवती पर ही निर्भर रहता है। हाइट, वेट, अगर पहली प्रेगनेंसी होने पर भी।




चौदह सप्ताह गर्भावस्था में अल्ट्रासाउंड | Ultrasound 14 week pregnancy in hindi




गर्भावस्था चौदह सप्ताह केयर टिप्स | Self care tips 14 week pregnancy in hindi


त्वचा के बतलाओ पर नजर



इस समय शरीर में तिल का आना चमत्कार नहीं, यह आपके प्रेगनेंसी हार्मोन के कारण है। लेकिन फिर भी अच्छा होगा आप इसको डॉक्टर से दिखाएं जो आपके बदलते स्किन की जांच करेंगे।




हलचल करते रहे



दूसरी तिमाही में आपके अंदर एक नई ऊर्जा आ गई होगी आपको इसका फायदा उठाना चाहिए। आप चाहे तो कुछ व्यायाम, एक्सरसाइज कर सकती है। एक्सपर्ट 30 मिनट तक छोटा-मोटा एक्सरसाइज करने की सलाह देते हैं।




वजन बढ़ने के लिए तैयार



आपकी दूसरी तिमाही में बेबी काफी तेजी से बढ़ने लगता है। इसलिए आप इसबार काफी तेजी से वेट गेन करने लगेगी। अगर आपकी प्रेगनेंसी समान्य से शुरू हुईं होगी तो आप 14 पाउंड तक वजन बढ़ जाएगा।




आप आपने वजन की माप करते रहे। हफ्ते में एक बार एक ही समय और एक ही कपड़ो जिससे आपको सही अंदाजा हो सके।




खाने का ध्यान



अगर किसी कारण आप खाना, कहना भूल जाती होंगी तो अलार्म का प्रयोग करें। क्युकी आपको शिशु को भी पोषित करना होगा।




अगर अभी भी पेट की समस्या से खाने का मन न करता हो तो आपको पता होना चाहिए, खाली पेट आपको और तकलीफ दे सकता हैं। आप खुद को हाइड्रेट जरूर रखे।






ढीले तथा कूल कपड़े पहने



आपके मेटाबॉलिज्म के कारण हो सकता है आपको गर्मी लगने लगे, खासकर जब आपका एक्सरसाइज करे। इसलिए अपने लिए ढीले और कूल कपड़े चुने।  






आप कॉटन के ब्रा भी पहन सकती है। जो आपके बढ़ते ब्रेस्ट को भी आराम देगा।




खरीदारी समझदारी से करे



यदि आप खाने के सामान लेने जाए तो हमेशा फ्रेश चीजों की खरीदारी करें। क्योंकि इससे आपको भरपूर विटामिंस और मिनरल्स मिलेंगे। ताजी सब्जियां, फल जरूर खरीदे।





ग्यारह सप्ताह के लिए प्रेगनेंसी डाइट


यदि आप वेजीटेरियन है तो आपको जरूरी पोषक तत्व जैसे प्रोटीन, विटामिन बी12, कैल्शियम, विटामिन डी, डीएचए, आयरन और फोलेट की उचित मात्रा अवश्य लेनी चाहिए


प्रोटीन युक्त भोजन खाए - जैसे नाइट्स, मूंगफली, दाल

यदि आप दूध नहीं पीना चाहती, तो आप दही का सेवन करें 

हरी सब्जियां खाये, रेशेदार फल और सब्जियां जरूर सेवन करे




Hindiram के कुछ शब्द


14 week pregnancy in hindi : प्रेगनेंसी का ये सप्ताह गर्भवती और शिशु दोनों के लिए अनेकों बदलाव लेकर आता है लेकिन अभी सबसे जरूरी होगा आप खुद का और शिशु का ख्याल रखें, हेल्दी डाइट ले, और अधिक से अधिक पानी पिए, यदि आपको किसी प्रकार की शंशा हैं तो अपने निरीक्षक से परामर्श ले सकते हैं

और नया पुराने