तैंतीस सप्ताह गर्भावस्था लक्षण | 33 week pregnancy in hindi

आपकी गर्भावस्था अब 33 सप्ताह लंबी हो चुकी है मतलब कि आप तीसरी तिमाही के आधे हिस्से को भी पार कर गई है


आपका शिशु भी अब अपनी जन्म की लंबाई में पहुंच चुका हैं लेकिन इस सप्ताह भी शिशु कुछ वजन चढ़ाने में व्यस्त है


विकास की इस क्रिया में आप शीशु की लात, छोटी-छोटी सांसे जैसे लक्षणों को महसूस कर सकती हैं



33 week pregnancy - मतलब 8 माह गर्भावस्था

3rd trimester - मतलब तीसरी तिमाही

7 week to go - मतलब 7 सप्ताह बचे




शीशु का विकास | child development at 33 week pregnancy in hindi


33-week-pregnancy-in-hindi


Here's quick summary… 


  • शिशु के सिर की हड्डियां अभी भी लचीली है यहीं शिशु को जन्म के समय बर्थ कैनाल से निकलने में मदद भी करेगा
  • शिशु आजकल थोड़ी मात्रा में एमनीओटिक फ्लूइड पी लेता है जो उसके गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल सिस्टम को तैयार करता हैं
  • शिशु अभी बहुत तेजी से अपने वजन को बढ़ा रहा है हर हफ्ते आधा पाउंड के जितना



33 सप्ताह में शिशु का आकार - baby size


इस सप्ताह तक आपका शिशु 16 से 17 इंच या इसे थोड़ा बहुत कम ज्यादा लंबा या छोटा होगा यदि यह छोटा होगा तो इस सप्ताह के अंत तक 1 इंच और बढ़ जाएगा


उसका वजन भी 4 ¼ पाउंड तक बढ़ गया हैं तथा प्रति सप्ताह आधा पाउंड जितना वजन गेन करता हैं।



शिशु की लाते - baby movements


गर्भ में इतने बड़े शिशु के साथ आपके एमनियोटिक फ्लूइड का लेवल 3 सप्ताह गर्भवती होने पर बढ़ गया हैं जो आपको ऐसा प्रतीत करा सकता है फ्लूइड से ज्यादा शिशु है, यह भी एक कारण है क्यों शिशु की लाते आजकल ज्यादा तीखे लगते हैं



शिशु रात और दिन में अंतर कर सकता है


क्या आपको पता है गर्भ में शिशु बिल्कुल इंसानों जैसे हरकतें करने लगा है मतलब शिशु में अभी से समझ आ चुकी है कब उसे सोना है कब जागना है इसलिए वह रात को गहरी नींद सोता हैं तो सुबह उठ भी जाता है।


गर्भाशय के बढ़ने से उसकी दीवार पतली हो गई है जिससे प्रकाश भी आपके गर्भाशय के अंदर चली जाती होगी जो शिशु को दिन और रात में फर्क करने में मदद करता है।



शिशु का इम्यून सिस्टम डिवेलप हो रहा है


33 सप्ताह गर्भावस्था में शिशु में एक बहुत बड़ा बदलाव आता हैं अब उसका शरीर खुद के लिए इम्यून सिस्टम बनाने लगा है, एंटीबॉडी आपके शरीर से शिशु में जाते हैं जैसे ही शिशु खुद के लिए इम्यून सिस्टम बनाने लगते है ये शिशु को तब काम आएगा जब वह गर्भ के बाहर आ जाएगा



तैंतीस सप्ताह गर्भावस्था में आपका शरीर | your body at 33 week pregnancy in hindi 


33-week-pregnant-belly


इनसोम्निया - insomina


क्योंकि गर्भावस्था के दौरान अत्याधिक रूप से हार्मोनल बदलाव होते हैं जिनकी वजह से ही बार बार पेशाब, पैरों में जकड़न, हार्टबर्न और सबसे बड़ा आपका बढ़ा हुआ पेट है यह सब कहीं ना कहीं आपके नींद पर भी असर डालते हैं


तीसरी तिमाही में 4 में से 3 गर्भवतियों को इनसोम्निया की शिकायत होती है, हालांकि 33 सप्ताह गर्भावस्था में आपके शरीर को आराम की सख्त जरूरत होती है इसलिए अत्यधिक चिंता करना, बार-बार समय गिनने से कुछ नहीं होगा


खुद को आराम देने के लिए जो हो सके करें, सोने से पहले गर्म स्नान, गर्म दूध पीना भी काफी फायदेमंद रहता हैं। लेकिन सोने से पहले एक्सरसाइज, खाना, स्क्रीनिंग से जितना दूर रहेंगे उतना उपयुक्त रहेगा।


अगर फिर भी नींद ना आए तो किताब पढ़े, म्यूजिक सुने, वैसे प्रेगनेंसी इनसोम्निया आपको बाद में भी काम आने वाला है



ओमेगा 3 फैटी एसिड


शोध बताते हैं जो गर्भवतियां भरपूर ओमेगा 3 फैटी एसिड लेती है जन्म के बाद शिशु में दिमागी विकास में बहुत सहायक होता है


DHA शिशु के ब्रेन और विजन के विकास में बहुत जरूरी होता है तथा शिशु में लगभग सभी DHA तीसरी तिमाही के दौरान एकत्रित होता है। DHA गर्भअवस्था में प्रिटर्मलेबर और पोस्टपार्टम डिप्रेशन कम करने में मदद करता है।


मगर ध्यान रखिए, गर्भावस्था के दौरान आप जो भी खाए वह फ्रेश, हल्दी और अच्छे से पका हुआ होना चाहिए


आप चाहे तो सप्लीमेंट्स का भी उपयोग कर सकते हैं।




तैंतीस सप्ताह गर्भावस्था के लक्षण - 33 week pregnancy symptoms in hindi



शिशु के ताकतवर हरकतें


दिन में दो बार आप शिशु की हरकतों को जरूर गिने, एक सुबह और एक शाम के समय - घड़ी देखें और शिशु की हर छोटी-बड़ी हरकतों को नोटिस करें, जब तक गिनती 10 तक ना पहुंच जाय 1 घंटे के अंतराल में, अगर ऐसा नहीं होता है तो पानी पिए और आराम करे शायद शिशु भी अभी आराम कर रहा हैं।



फूले हुए नसें


हां... देखने में अच्छे तो बिलकुल नहीं लगते, कई बार हल्का दर्द भी महसूस कर सकते हैं लेकिन अगर आप चिंतित हैं कि ये फूली हुई नसें आपके लिए हानिकारक सिद्ध होंगी तो ऐसा बिल्कुल भी नहीं है। इसलिए चिंतित ना हों, जन्म के बाद यह सब पहले जैसे हो जाएगा



राउंड लिग्मेंट पेन


जब आप अपनी पोजीशन बदलती है अचानक से उठने पर पेट में दर्द महसूस करती है मतलब कि आप राउंड लिग्मेंट पेन महसूस कर रही है। जब तक ये कभी-कभार हो या इसके साथ बुखार ठंडी या बिल्डिंग जैसी समस्या ना हो रही हो तब तक आपको चिंता करने की जरूरत नहीं, पैर ऊपर कर आराम करें



नाखूनों में बदलाव


प्रेगनेंसी हार्मोन आपके नाखूनों को तेजी से बढ़ने के लिए प्रेरित करते हैं साथ ही उन्हें कठोर भी बना देते हैं अगर आपके भी नाखून कठोर हो गए हैं तो अपने डाइट में बायोटीन शामिल करें जैसे - केला, एवोकाडो, नट्स



छोटी-छोटी सांसे


बढ़ता हुआ पेट में रास्ते में आने वाली सभी चीजों को दूर करने की कोशिश करता है फेफड़ों को भी, जो पूरी तरह फैलने में असमर्थ हैं यह शिशु की तुलना में आपके लिए ज्यादा असुविधाजनक है शिशु को तो प्लेसेंटा से ऑक्सीजन मिल जाएगा लेकिन सीधे खड़े होना आपकी मदद कर सकता हैं।


क्लम्सिनेस


बड़े हुए पेट के कारण आपके शरीर के भार में भी बदलाव आया है इसलिए ज्यादा हरकतें करने की कोशिश ना करें



प्रेगनेंसी ब्रेन


ऐसा कहा जाता है महिलाएं जो बेबी गले से प्रेग्नेंट होती है उन्हें ज्यादा भूलने की समस्या होती है वैसे यह कितना सच है या झूठ इसका तो पता नहीं, लेकिन ये सभी प्रेगनेंसी हार्मोन के कारण होता है आप चीजों को लिखकर याद रख सकते हैं



ब्रैक्सटन हाइक्स कांट्रेक्शन - Braxton Hicks Contraction Early labour Contraction


अगर इससे पहले कभी अपने लेबर पेन महसूस नहीं किया होगा तो जरुर लेबर पेन कैसे होता सोच रही होंगी...


लेबर पेन के सिंप्टम्स जानना चाहती हैं - वैसे अभी तो शायद रोजाना आप कॉन्ट्रक्शन महसूस करती होंगी, हर थोड़े थोड़े समय में पीरियड के जैसे ऐठन, गर्भाशय में सिकुड़न महसूस करती होंगी, लेकिन अगर किसी महिला की पानी की थैली फूट जाती है तुरंत उन्हे हॉस्पिटल के लिए रवाना होना चाहिए



सेल्फ केयर टिप्स | self care tips 33 weeks pregnancy in hindi


हॉस्पिटल


जैसे-जैसे शिशु का जन्म नजदीक आ रहा है आपको उसके आने के लिए तैयारी पहले से करके रखनी चाहिए आप अपने लिए हॉस्पिटल को चुनाव पहले से करके रखें ताकि सही समय आने पर आपको किसी प्रकार की समस्या ना हो



कैल्शियम ले


अगर दूध पीना आपको अच्छा नहीं लगता तो आप कैल्शियम की पूर्ति के लिए दूसरे सोर्सेस को देख सकती है शायद दूध के साथ स्मूदी या सूप, यह आपकी कैल्शियम की कमी को पूरा करने में मदद करें


एक कप दही में भी आपको एक गिलास दूध के जितना कैल्शियम मिल जाएगा या फिर आप जूस जैसे - संतरे, अंगूर, सेब, जिसमें कैल्शियम होता है ले सकती हैं


यहां आपको विटामिन डी की भी पूर्ति करनी है 



अपसेट स्टमक


अगर आपका शरीर लेक्टोंस पचाने में समर्थ नहीं हो पा रहा है तो आप पाएंगी, दूध पीना, आपको गैस, ब्लॉटिंग जैसी समस्या का दे सकता है।


आप चाहे तो लेक्टोज फ्री मिल्क ले सकते हैं या लेक्टोज टेबलेट ले सकते हैं या फ़िर कम मात्रा में दूध का सेवन करें जिससे आपके शरीर को इसे पचाने में आसानी हो…



अपनी साइड में सोए


बस कुछ महीने और फिर आप अपनी पीठ पर सो रही होंगी लेकिन अभी आपको अपनी साइड पोजीशन में ही सोना है


वैसे बहुत से एक्सपर्ट मानते हैं लेफ्ट साइड आपके और आपके शिशु दोनों के लिए बेस्ट स्लीपिंग साइड है


Hindiram के कुछ शब्द


33 week pregnancy in hindi - गर्भावस्था पहला सप्ताह में आप pregnant नहीं रहती बल्कि ये समय तो आपके मेश्चुरेशन के शुरूआत का है क्युकी गर्भावस्था महिला के आखरी मासिक चक्र से गीना जाता है इसलिए इसे week 33 of pregnancy भी कहा जाता हैं।

और नया पुराने