छत्तीस सप्ताह गर्भावस्था लक्षण | 36 week pregnancy in hindi

36 सप्ताह की गर्भवती होने पर आप एक 9 माह की गर्भवती हो जाती है वैसे तो अधिकांशत: नौ माह गर्भावस्था को महत्वपूर्ण दृष्टि से देखा जाता है जबकि एक पूर्ण गर्भावस्था 10 माह पहुंचने तक रहती है या इससे ज्यादा भी


शिशु जो जल्द ही आने वाला है वह भी धीरे-धीरे नीचे की ओर आ रहा है जो अब आपके पेल्विस पर प्रेशर डालने लगता है


तथा आखिरी के महीनों में आपके जॉइंट्स कुछ ज्यादा ही लचीले बन जाते हैं वैसे तो ये लेबर के समय आपके बेबी को बाहर आने में मदद ही करेगा



36 week pregnancy - मतलब 9 माह गर्भावस्था

3rd trimester - मतलब तीसरी तिमाही

4 week to go - मतलब 4 सप्ताह बचे




शीशु का विकास | child development at 36 week pregnancy in hindi


Here's quick summary… 


शिशु : आपका शिशु अब पूरी तरह इंसानों के जैसे दिखने लगा है गोल मटोल पैर, गुलाबी त्वचा, शिशु के इस रंग का कारण त्वचा के नीचे मौजूद रक्त वाहिनियां हैं


सुनने की क्षमता : शिशु के सुनने की क्षमता गर्भावस्था के आखिरी दिनों में कुछ ज्यादा ही होती है बहुत से शोध के अनुसार वह आपकी आवाज को भी पहचान सकते हैं


शिशु का नीचे आना : अगर यह पहला बर्थ होगा तो शिशु नीचे आपके पेल्विस पर आ गया होगा जिसे lightining या ड्रॉपिंग भी कहते हैं




36 सप्ताह में शिशु का आकार - baby size


कुछ देर के लिए अगर आप अपने सभी दर्द, प्रेगनेंसी के लक्षणों को साइड में रखें, तो आप देख पाएंगे, कि 36 सप्ताह में आपका शिशु 18 से 19 इंच लंबा और लगभग 6 पाउंड जितना वजन गेन कर चुका है


विकास की क्रिया आने वाले सप्ताहों में धीरे-धीरे कम हो जाएंगी, जिससे शिशु को भी जन्म के समय सरविक्स के सकरे रास्ते से बाहर आने में आसानी हो,



शिशु की खोपड़ी और हड्डियां


जब आप 36 सप्ताह की गर्भवती रहती हैं इस समय शिशु के शरीर की हड्डियां आपस में जुड़ी नहीं होती यही शिशु को बर्थ के समय बाहर आने में भी मदद करता है


शिशु के शरीर में सिर्फ उसका सिर ही नहीं है जिसकी हड्डियां पतली है बल्कि लगभग उसके सभी हड्डियां कार्टिलेज पतले हैं जो उसे डिलीवरी के समय बाहर की दुनिया में आने में मदद करते हैं मगर चिंता मत करें आने वाले को सप्ताह में यह कठोर भी हो जाएंगे



बेबी पोजीशन


जन्म के लिए तैयार शिशु, 36 सप्ताह में शिशु के बर्थ पोजीशन में आने की संभावनाएं (हेड डाउन पोजिशन) लगभग 93% होती है तथा 37 सप्ताह तक इसकी संभावना बढ़ कर 97% हो जाती है



स्लीप साइकिल


शिशु के सोने और जागने की प्रक्रिया अब अधिक विकसित हो चुकी है 36 सप्ताह में आपको शिशु बहुत होता है लेकिन कुछ समय बाद भी रहा होता है



गर्भ के बाहर जीवन - Survival outside the womb


शिशु जिसका जन्म 36 सप्ताह के अंतर्गत हो जाता है उन्हें लेट प्रिटर्म और नियर टर्म कहा जाता है ये जन्म के लिए लगभग तैयार हो चुके होते हैं तथा किसी प्रकार की मदद की जरूरत नहीं है हां देखभाल की जरूरत हो सकती है


इस स्तर पर जन्म लेने वाले शिशु बहुत अच्छा करते हैं तथा उनका सर्वाइवल रेट 99% होता है



छत्तीस सप्ताह गर्भावस्था में आपका शरीर | your body at 36 week pregnancy in hindi 


प्रेगनेंसी में चलना


गर्भावस्था के आखिरी महीने में आपका स्वागत है यह बहुत अच्छी बात है कि आपका शीशु पूरी तरह बन चुका हैं तथा आपका शरीर भी अपना कार्य पूर्ण रूप से कर गया


लेकिन एक चीज जो 36 सप्ताह के समय आपको देखना पड़ सकता है आपके चलने के तरीके में बदलाव - पेंग्विन की तरह, तीसरी तिमाही में लगभग सभी माए इस चलने के तरीके को अपना लेती है वैसे यह सभी हार्मोनल बदलाव के कारण - loosening और softening के कारण होते हैं


क्योंकि आप अपने डियू डेट के काफी नजदीक है शिशु जो काफी बड़ा भी हो चुका हैं पेल्विस बोन से निकल सके इसलिए जरूरी है कि आप फ्लेक्सिबल रहें, यह आपके शरीर का तरीका है जिससे शिशु बाहर आ सके छोटी सी जगह से



पेल्विक पेन


शरीर के लचीले बनने का एक नकारात्मक प्रभाव यह है खुद को संभाल लेने के बावजूद पेल्विस पेन, तथा शिशु का सिर जो पेल्विस पर प्रेशर डाल रहा होता है वह गर्भाशय से नीचे आ रहा होता है तथा इसमें कोई शक नहीं आपको दर्द हो रहा होगा


इससे कुछ आराम पाने के लिए अपने हिप्स को थोड़ा ऊपर करते हुए आराम करें, थोड़ा पैलेस एक्सरसाइज करें, गर्मी स्नान, अप्लाई वार्म कंप्रेसर, प्रीनेटल मसाज



बेबी ड्रॉप्स - lightening


एक बड़ा आरामदायक अनुभव आपको तब होगा जब शिशु आपके पेल्विस कैविटी में ड्रॉप हो जाएगा, इस बात का ध्यान रखें सभी शिशु लेबर से पहले ड्रॉप नहीं होते, यूटरस की वजह से जो आपके daiphram में प्रेशर पड़ रहा होता है वह हट जाएगा, जिससे आप खुलकर सांस ले सकेंगी लंबी और गहरी


आपका पेट भी सिकुड़ा हुआ नहीं रहेगा जो आपको फूल मील खाने में भी मदद करेगा।



छत्तीस सप्ताह गर्भावस्था के लक्षण - 36 week pregnancy symptoms in hindi


चेंज इन फेटल मूवमेंट


शिशु का आकार बड़ा होने की वजह से अब शायद अंदर की जगह उसे कम पड़ने लगी हुई थी जिसके कारण आप उसकी हरकतों में भी बदलाव महसूस कर सकती हैं आप शिशु की हरकतों को महसूस कर रही हैं लेकिन अब उसकी लाते बहुत कम हो गई हैं


हाथ बल और इनडाइजेशन


जैसे ही आपका पेट गर्भाशय के कारण पड़ने वाले दबाव से प्रभावित होता है आपको लगेगा आप बहुत कम खा रहे हैं वैसे ही बुरी बात नहीं अभी के दौरान स्मॉल अलमीरा के लिए लाभदायक रहे


ब्लोटिंग एंड गैस


अगर 8 बार आपके लिए जैसे कम था तो गैस की समस्या से भी जुड़ सकती हैं इस स्माल अरविंद ले जो हाथ भरने में भी आपकी सहायता करेंगे तथा जल्दी-जल्दी खाने से बचें इससे आप हवा भी खाती हैं


कॉन्स्टिपेशन


अगर यह बहुत ज्यादा ही होने लगा है आप इसे अपनी पेट को ही पैसे वैसे तो स्मॉलर मेल आपको हाथ बर्नर गैस जैसी समस्या से राहत पहुंचाता है वह यहां कब्ज में भी आराम दिलाता है यह आपके पाचन तंत्र को भी आराम पहुंचाते हैं


वेजाइनल डिसचार्ज


जिस चाय पियोगे साइना से हो रहा होगा वह पढ़ने के साथ पतला भी हो गया होगा डरे नहीं अगर आप म्यूकस को गुलाबी लाल भूरे रंग का देखें जब आपका वेजाइनल एग्जामिनेशन है यह बता रहा है आपका सर यह जो अभी संवेदनशील है वह डिलीट हो रहा है



लीची बैली


आपका पेट कैसे महसूस हो रहा होगा जैसे इतना स्टेज हो गए हैं मानो यह टूटने के कगार पर हूं क्रीम जिनमें कोको बटर विटामिन होते में होने वाली खुजली से आराम दिला सकते हैं


इनसोम्निया


अच्छे से सोना अभी आपके लिए बहुत बड़ा काम लगता है पूरी तरह थकी हुई होने के बावजूद शिशु की हरकतें कभी हमसे सेंटर आपको एक अच्छी और आरामदायक नींद लेने से रोक देते हैं जो आरामदायक नींद के लिए जो हो सके करें अधिक गर्मी महसूस करने पर खिड़कियां खोल दो



नेस्टिंग इंस्ट्रिक्ट  


36 सप्ताह तक पहुंचते तक खुद को थका हुआ महसूस करना एक सामान्य बातें देखें इस बीच आप खुद में एक एनर्जी बूस्ट देख सकते हैं एक ऐसी ताकत जो आपको खुद को तैयार करने में मदद चाहिए अगर आप अभी भी एनर्जी बूस्ट को महसूस कर रही है तो एक ले आराम करें और अच्छे से



सेल्फ केयर टिप्स | self care tips 36 weeks pregnancy in hindi



हरकतों में बदलाव देखें


घबराएं नहीं अगर आपको शिशु की हरकतों में बदलाव देखे जैसे लाभ और खरोश के बदले लोटपोट करना अंदर उसके लिए जगह शायद कम पड़ रही होगी फिर भी आपको अपने ससुर की हरकतों को ध्यान में रखना है


हर दिन अगर आप चिंतित लगे कुछ मीठा खाया और देखें शिशु क्या हरकत करते हैं अगर आपको उसकी हरकतों में अनिश्चित बदलाव दिखे तो अब तो तुरंत डॉक्टर को बताएं



पानी की थैली


तैयार रहें अपने पानी की थैली सैनिक होने वाले इस तरह के लिए जो एक गाड़ी पीले रंग का डिस्चार्ज होता है जिसके साथ ब्लड भी आता है है लेबर में होने वाले दिन 1 से 2 घंटे पहले


वैसे इसमें चिंता की बात नहीं अगर म्यूकस प्लग किस ड्यू डेट से पहले बाहर आ गया हूं इसके बाद भी कुछ सप्ताह हो सकते हैं बिगड़ सूरी होने को


इसके बावजूद भी आप का शिशु पूरी तरह सुरक्षित रहता है यहां आपका शरीर लगातार सर्वाइकल निकल बनाता है जिससे किसी प्रकार के संक्रमण को रोका जा सके मतलब शिशु अभी कावट से सुरक्षित है



अधिक से अधिक भी सीख ले


प्रोटीन के साथ आपको उपयुक्त मात्रा में पाए रेडॉक्सन लेना चाहिए यह एक तरह का विटामिन है जिससे बी सिक्स भी कहा जाता है यदि आपके शरीर और शिशु को कोशिकाओं के निर्माण में मदद करता है


बीसीसीसी के दिमाग के विकास नर्वस सिस्टम को विकसित करने में मदद करता है आपको 2013 अटल विटामिंस और खाद्य पदार्थ जैसे खेला एवोकाडो गेहूं ब्राउन राइस सोयाबीन वोट में आलू टमाटर पालक जैसी चीजों में मिल जाएगा



प्रसव के बारे में जाने


अगर आप पैसों को लेकर चिंतित हैं बेहतर होगा इसे अपने डॉक्टर से चर्चा करें यह आपके लिए काफी मददगार होगा


फ्री लेबर कुछ घंटों से लेकर कुछ दिनों तक सप्ताह या महीनों तक रह सकते हैं तथा इसके संकेत और लक्षण सभी के लिए अलग हो सकते हैं


प्रसव के स्तर


प्रसव तीन स्तर में होते हैं - अर्ली, एक्टिव और ट्रांजिशनल


पहला स्टेज अक्सर लंबा होता है और यह बहुत कम तीव्र होता है यह कुछ घंटों सप्ताहों तक रह सकता है


दूसरा स्टेज और एक्टिव लेबर यह कुछ घंटो तक रहता है इस समय आप हॉस्पिटल या बर्थ सेंटर में होंगी जहां कांट्रेक्शन आपको 40 से 60 सेकंड तक हो सकता है


तीसरे स्टेज जो आखिरी होता है ट्रांजिशनल लेबर यह बहुत तीव्र होता है तथा कम समय के लिए होता है 15 मिनट से 1 घंटे तक


Hindiram के कुछ शब्द


36 week pregnancy in hindi - गर्भावस्था पहला सप्ताह में आप pregnant नहीं रहती बल्कि ये समय तो आपके मेश्चुरेशन के शुरूआत का है क्युकी गर्भावस्था महिला के आखरी मासिक चक्र से गीना जाता है इसलिए इसे week 36 of pregnancy भी कहा जाता हैं।

और नया पुराने