कैसे पता करें गर्भपात पूरा हो गया हैं - सफल गर्भपात के 08 लक्षण - abortion kaise hota hai

गर्भपात सफल और सुरक्षित बनाने के लिए बहुत सी चीजों का ख्याल रखना पड़ता हैं क्युकी जब तक प्रेगनेंसी के अवशेष शरीर से बाहर ना आ जाए, गर्भपात पूरा नहीं हो सकता है 



कैसे पता करने के लिए गर्भपात पूरा हो गया है देखिए... अगर आप जानना चाहते हैं गर्भपात सफल हुआ हैं या नहीं, इसे कुछ टेस्ट के जरिए पता लगा सकते हैं लेकिन गर्भपात का सफल होना भी कुछ चीजों पर निर्भर करता है - complete abortion treatment


हालांकि, गर्भपात के बाद किसी तरह के कॉम्प्लिकेशन का होना बहुत रेयर होता है लेकिन फिर भी आपको सतर्क रहने की आवश्यक्ता है क्युकी pregnancy termination कराए जाने पर अगर प्रेगनेंसी अवशेष पूरी तरह बाहर न आ पाए आ पाए तो incomplete abortion जैसे लक्षण उभर सकते हैं


Complete abortion treatment में बस यहीं नहीं है गर्भपात के बाद अगर रक्त स्त्राव अधिक व लम्बे समय तक हों रहा है तब भी ये सफल गर्भपात के लक्षण नहीं है आपको जानना चाहिए गर्भपात पूरा हुआ या अधूरा


चलिए जानते है एक सफल गर्भपात होने के लिए क्या जरूरी होता है कैसे पता करने के लिए गर्भपात पूरा हो गया हैं - Complete abortion treatment




गर्भपात सफल होने से जुड़ी 8 महत्वपूर्ण बाते - kaise pata karne ke liye garbhpat pura ho gya hai | Safal garbhpat ke lakshan


कैसे-पता-करने-के-लिए-गर्भपात-पूरा-हो-गया-हैं


मेडिकल अबॉर्शन अर्थात medical termination of pregnancy उन आसान उपायों में एक है जिससे 10 सप्ताह तक की प्रेगनेंसी को आसानी से रोका जा सकता हैं...


Pregnancy termination अर्थात प्रोसीजर का कुछ हिस्सा डॉक्टर clininc में करना होता है वहीं बहुत सी महिलाएं इसे पूर्णत: घर पर रहकर Complete abortion treatment करवाती हैं

 

अगर आपकी गर्भावस्था 10 सप्ताह से अधिक हो गयी है तो medical abortion की जगह surgical abortion किया जाएगा




गर्भपात कैसे होता हैं | कैसे पता करने के लिए गर्भपात पूरा हो गया है- abortion kaise hota hai. What is an abortion



जब कोई महिला गर्भपात कराना चाहे, सबसे पहले उन्हे medical abortion की ओर रुख करना चाहिए, जिसमें कुछ मेडिसीन का उपयोग करके pregnancy terminate की जाती है मगर 10 सप्ताह से अधिक होने पर surgical abortion ही बेस्ट होता हैं, हालांकि, दोनों रूपों में सुरक्षित गर्भपात किया जा सकता हैं


जब गर्भपात प्रक्रिया में दूसरी डोज अर्थात मिसॉप्रोस्टल लिया जाता है medicine लेने के कुछ घंटों बाद ही महिला को ब्लीडिंग और क्रेपिंग होने लगती हैं जो ये संकेत हैं abortion pill कार्य कर चुकी है।


हैवी ब्लीडिंग और ब्लड क्लॉट्स का जाना, प्रेगनेंसी के अवशेष - भ्रूण कोशिकाओ के बाहर निकलने का संकेत है इसके अलावा पेट में ऐठन होना गर्भाशय के सामान्य अवस्था में आने का संकेत देता है मतलब गर्भपात सफल हो गया है


आप चाहें तो clinical chekup के जरिए, सफल गर्भपात होने की जांच करा सकती है





गर्भपात प्रक्रिया पूर्ण होने में कितना समय लगता है | कैसे पता करने के लिए गर्भपात सफल हुआ - complete abortion kaise hota hai 



अधिकांशतः गर्भपात में दो medicine's का उपयोग किया जाता है Mifepristone और misoprostal, तथा गर्भपात प्रक्रिया पूर्ण होने में 2 से 3 दिनों का समय लग जाता है।


हालांकि, Abortion pills खाने के कुछ सप्ताह बाद तक आप इसके सिंप्टमों को महसूस करेंगी, अगर आपने गर्भपात के लिए medical abortion का रास्ता चुना होगा तो abortion procedure से पहले कुछ टेस्ट कराने होते है


अल्ट्रासोनोग्राफी, जिससे एक्टोपिक प्रेगनेंसी का पता लगाया जा सके, अल्ट्रासाउंड टेस्ट जिससे गर्भावस्था का समय, शिशु और प्रेगनेंसी की सटीक जानकारियां प्राप्त की जाती हैं जिसके मुताबिक फिर गर्भपात गोली की पहली डोज दी जाती हैं

 

पहली डोज खाने के लगभग 24 से 48 घंटे बाद abortion pill की दूसरी डोज खाई जाती है दूसरी डोज या तो आप मौखिक लेंगी, योनि के रास्ते, दांतो के बीच, गाल अथवा जीभ के नीचे प्रयोग किया जाएगा। 


दूसरी डोज लेने के 1 से 4 घंटे बाद, गर्भवती महिला को ब्लीडिंग और स्पॉटिंग होने लगती हैं जिसका मतलब ये हैं abortion procedure कार्य कर रहा है…




गर्भपात की गोलियां कैसे कार्य करती हैं | Garv girane ka medicine kaise kary karti hai



गर्भपात के लिए अगर आप abortion kit का उपयोग करने वाली हैं तो इसके अन्दर आपको दो अलग अलग मेडिसीन मिलेंगी, एक बड़ी गोली mifepristone की और चार छोटी गोलियां misoprostal की


अधिकांशत: यहीं दोनों मेडिसीन लगभग सभी ब्रांड्स के abortion kit के अन्दर होते है, हालांकि, इनके उपयोग का तरीका आपकी प्रेगनेंसी के अनुसार बदल सकता है




गर्भपात गोलियों की खुराक - Garv girane ka medicine kaise khay



गर्भपात गोली की पहली खुराक में आप माइफप्रिस्टोन टैबलेट की पहली डोज लेंगी, abortion kit के अन्दर जो बड़ी गोली होती है वहीं Mifepristone tablet रहतीं हैं जिसका मुख्य काम गर्भवति महिला में प्रोजेस्ट्रोन हार्मोन के स्त्राव को रोकना है। 


प्रोजेस्ट्रोन हार्मोन स्त्राव नहीं होने से गर्भाशय की दीवार जिसे endometriosis भी कहते है वह टूटने लगती है क्युकी अब प्रोजेस्ट्रोन हार्मोन का स्त्राव नहीं हो रहा हैं शरीर अब प्रेगनेंसी आगे बढ़ाने में असमर्थ है


इसी समय जब महिला गर्भपात गोली की दूसरी खुराक misoprostal लेती हैं ये medicine tablet संकुचन गर्भाशय में कॉन्ट्रैक्शन का कारण बनता हैं साथ ही इसके प्रयोग से गर्भाशय में मौजूद प्रेगनेंसी के अवशेष ब्लीडिंग और स्पॉटिंग के साथ बाहर निकलने लगते है और complete abortion treatment गर्भपात पूरा हो जाता हैं।




गर्भपात कराना कितना इफेक्टिव होता हैं प्रेगनेंसी रोकने में | पहले महिने में गर्भपात के लक्षण - effectivness of 1 month pregnancy rokne ki tablet 



अबॉर्शन पिल्स या pregnancy termination पिल्स 10 सप्ताह तक कि प्रेगनेंसी रोकने में कारगर होती है वहीं 1 month pregnancy rokne में इसकी कार्य क्षमता 95% तक रहती है क्युकी गर्भावस्था का समय बढ़ने से pregnancy rokne ki tablet की कार्य क्षमता भी कम होने लगती है..



उदाहरण के लिए -


गर्भधारण के पहले माह pregnancy rokne ki tablet खाना 95 - 98% सफल गर्भपात के लक्षण में परिवर्तित होता है 


वही जब गर्भपात, गर्भधारण के 9 से 10 सप्ताह बाद किया जाता है तब garv girane ki medicine खाना 91 - 93% ही सफल गर्भपात के लक्षण में परिवर्तित हो पाता है


अगर आपको प्रेगनेंसी एकटॉपिक हैं तो garv girane ki medicine ना खाए बल्कि डॉक्टर से परामर्श करने के बाद ही गर्भपात के लिए आगे बढ़े




गर्भपात पूरा होने पर कैसे महसूस होता हैं | सफल गर्भपात के लक्षण - garbhpat ho gaya kaise pata chalega. Complete abortion symptoms in hindi 



जब अबॉर्शन पिल्स अपना असर दिखाना शुरू करती है तब आप बहुत सारे सिंप्टम्स महसूस करेंगी जैसे -


  •  इरेगुलर ब्लीडिंग (irregular bleading)
  • स्पॉटिंग और ब्लीडिंग होना (spoting and bleading)
  • अत्याधिक थकान (tiredness)
  • सिर दर्द (Headache)
  • स्तनों में कसाव महसूस होनां (Brest tenderness)
  • शरीर में दर्द (body ache)
  • पेट में तेज ऐठन 
  • चक्कर आना 
  • उल्टी और मतली


अबॉर्शन पिल्स की दूसरी डोज "मिसोप्रोस्टल" खाने के बाद 3 से 4 घंटों तक भारी रक्त स्राव (heavy bleading) और ऐंठन हो सकती हैं


यहां गर्भावस्था की उम्र भी होने वाले स्त्राव को प्रभावित करता हैं जैसे लाल रंग अथवा भूरे की ब्लीडिंग या स्पॉटिंग, ब्लीडिंग में आप व्हाइट प्रेगनेंसी सैक को भी आसानी से देख सकती हैं जो भ्रूण के मृत्य कोशिकाएं रहतीं हैं



गर्भपात के बाद केयर टिप्स - care tips after complete abortion treatment


गर्भपात के बाद महिला को आराम की सख्त जरूरत होती है क्युकी इस समय बहुत से हार्मोनल बदलाव हों रहें होते है जिसकी वजह से चक्कर आना, सिर दर्द, बदन दर्द जैसे लक्षण होने लगते हैं बेहतर होगा कुछ दिनों के लिए कार्य से छुट्टी ले


गर्भपात के बाद होने वाले दर्द और ऐठन से राहत पाने के लिए गर्म सेकाई करें, यहां आपको बहुत सारे मेस्चूरल पैड्स की भी जरूरत पड़ने वाली होती हैं


किसी भी प्रकार की मेडिकेशन जैसे एस्प्रिन इस्तेमाल न करें, क्युकी इनसे हैवी ब्लीडिंग का खतरा अधिक बढ़ जाता हैं इसकी जगह Ibuprofen ले सकते हैं। तथा किसी भी असामान्य लक्षणों पर डॉक्टर की मदद लें... 




गर्भपात पूरा हुआ या अधूरा कैसे पता करें | सफल गर्भपात के लक्षण - abortion kaise hota hai complete



वैसे तो गर्भपात पूरा होने पर शरीर धीरे धीरे अपनी सामान्य अवस्था में आने लगता है रक्त स्राव कम हों जाता, ऐठन भी कम हो जाती हैं तथा दूसरे साइड इफेक्ट जैसे बुखार, मतली, सिर दर्द, थकान गायब होने लगते हैं। कुछ दिनों में आप अपनी डेली रूटीन में भी आ सकती हैं... 


मासिक चक्र दोबारा शुरू होने में 4 से 6 सप्ताहों का समय लग सकता हैं, हालांकि, ओव्यूलेशन की प्रक्रिया 3 सप्ताह बाद से ही होने लगता है मतलब इस समय आप फिर से गर्भधारण कर सकती हैं।




कैसे पता करने के लिए गर्भपात पूरा हो गया है | सफल गर्भपात कैसे पहचानें - kaise pata kare ki pregnant hai ya nahi



वैसे तो क्लीनिकल परीक्षण करवाना सफल गर्भपात पता करने का सबसे आसान तरीका है लेकीन गर्भपात पूरा हुआ या नहीं इसके लिए अल्ट्रासाउंड या दूसरे टेस्ट की जरूरत तब होती हैं जब डॉक्टर गर्भपात में आई कॉम्प्लिकेशन को समझने में नाकामयाब हो रहें हों...  


सफल गर्भपात के लक्षण आप इस तरह जान सकते हैं -



निरीक्षण से गर्भपात पूरा होने का पता - pregnancy check-up after abortion


गर्भपात की गोलियां खाने के बाद सफल गर्भपात के लक्षण - abortion complete होने की पुष्टि इन symptoms से कर सकते हैं -


  • ब्लीडिंग और स्पॉटिंग कम होना
  • पेट में दर्द और ऐठन कम होना 
  • प्रेगनेंसी अवशेषों का बाहर निकल जाना
  • प्रेगनेंसी सिंप्टम्स बन्द होना
  • मासिक चक्र की शुरुआत होना



चिकित्सीय मूल्यांकन गर्भपात पूरा होने की पता - clinical assessment after abortion 


चिकित्सीय मूल्यांकन के लिए विशेषज्ञ पेशेंट की मेडिकल हिस्ट्री देखते हैं बाय मैन्युअल एग्जाम किया जाता है जिसके बाद ही प्रेगनेंसी रूकने की पुष्टि की जाती हैं। 



अल्ट्रासाउंड से गर्भपात कन्फर्म करना - Ultrasound test after abortion


अल्ट्रासाउंड टेस्ट (Ultrasound test) से भी गर्भपात पूर्ण होने की पुष्टि कर सकते हैं लेकिन इसमें खर्चा बहुत हैं। अल्ट्रासाउंड करना तब ठीक रहता है जब प्रेगनेंसी रूकने का पता डॉक्टर भी ना लगा पा रहे हो या फिर गर्भपात के दौरान कोई गंभीर समस्या उत्पन्न हुई हो



सिरम प्रेगनेंसी टेस्ट से गर्भपात कन्फर्म करना - serum pregnancy test after abortion


सिरम प्रेगनेंसी टेस्ट को अल्ट्रासाउंड के अल्टरनेटिव रूप में ओंगोइंग प्रेगनेंसी का पता करने में उपयोग किया जाता हैं


सिरम प्रेगनेंसी टेस्ट करना तभी संभव है जब पहले से एचसीजी हार्मोन check-up किया गया हो, क्योंकि माइफप्रिस्टोन की पहली डोज लेने के 7 दिनों बाद hCG harmone 90% तक कम हो जाता हैं जिससे abortion complete होने का पता चलता हैं।



यूरिन टेस्ट से गर्भपात पूरा होने का पता - urine pregnancy test after abortion


नेगेटिव यूरिन टेस्ट प्रेगनेंसी रूकने का सबूत है हालांकि, प्रेगनेंसी टेस्ट नेगेटिव होने के बावजूद महिला गर्भवती हो सकती है। ऐसा भी हो सकता, दोनों, High और Low सेंसिटिव यूरीन प्रेगनेंसी टेस्ट positive हो सकता हैं तथा मेडिकल abortion सफल हो सकता हैं।




FAQ. अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न



कैसे पता करने के लिए गर्भपात पूरा हो गया है ?


अधिकांशत: गर्भपात जिनमें abortion pills का उपयोग किया गया होता है 10 सप्ताह की प्रेगनेंसी रोकने में सफल ही होता हैं बहुत रेयर केसो में गर्भपात अपूर्ण होने की संभावना रहती हैं गर्भपात सफल होने की पुष्टी जरुर कराए




सर्जिकल अबॉर्शन में गर्भपात पूरा होने का पता कैसे चलेगा ?


सर्जिकल अबॉर्शन में 98 - 99 % गर्भपात सफल रहता है, हालंकि सर्जिकल अबॉर्शन के अपने ही खतरे होते है। सर्जिकल अबॉर्शन के बाद भी यदि गर्भाशय में प्रेगनेंसी के अवशेष रह जाए तो D&C की जरूरत पड़ती है।




गर्भपात के कितने दिन बाद पीरियड आता है ?


मासिक चक्र (period) 4 से 6 सप्ताह बाद आ जाएंगा। हालांकि, 3 सप्ताहों में ही शरीर ओव्यूलेट करने लगता है मतलब यदि इस समय आप असुरक्षित यौन संबंध बनाए तो फिर से गर्भधारण कर सकती हैं।




गर्भपात के कितने दिन बाद संबंध बनना चाहिए ?


आपको 3 से 4 सप्ताह रुकना चाहिए, क्योंकि इस समय संबंध बनाने से इंफेक्शन का खतरा अधिक रहता है। 




Hindiram के कुछ शब्द


कैसे पता करने के लिए गर्भपात पूरा हो गया हैं - abortion के बाद सफल गर्भपात के लक्षण से abortion complete होने की पुष्टि किया जा सकता है आपको गर्भपात के बाद खुद की केयर करनी चाहिए।

और नया पुराने