गर्भपात के बाद गर्भाशय की सफाई कैसे की जाती हैं? – Dilation & Curettage in hindi

गर्भपात के बाद सब ठीक हो, यह निश्चीत ही जरूरी नहीं, क्युकी जब तक गर्भपात सफल नहीं हो जाता विशेषकर गर्भवती महिलाओं को देखभाल व सावधानी बरतने की आवश्यकता होती है।

गर्भपात का होना किसी भी महिला के लिए अवसाद भरा हो सकता है गर्भपात के बाद जैसे – गर्भपात के बाद खून बह रहा है, योनि से अत्याधिक स्त्राव, गर्भपात का अपूर्ण रह जाना आदि गंभीर समस्या का कारण बन सकते हैं।

कुछ केसो में तो गर्भपात के बाद गर्भाशय की सफाई कराने की जरूरत पड़ती है खासकर तब जब गर्भपात को 10 सप्ताह से पहले कराया गया हो। हालांकि, शरीर, नेचुरली, प्रेगनेंसी अवशेषों को बाहर निकालने में सक्षम होता है और ऐसा होता भी है।

हालांकि, गर्भ की सफाई कराए जानें के पिछे अन्य कारण भी होते हैं! गर्भाशय की सफाई कैसे की जाती हैं? – डाईलेशन और क्योरटेज (D&C) प्रक्रिया द्वारा गर्भाशय की सफाई की जाती है। हालांकि, शरीर नेचुरली गर्भाशय की सफाई करने में सक्षम होता हैं लेकिन समस्या गंभीर होने पर गर्भाशय की सफाई आवश्यक हो जाती हैं।

चलिए जानते हैं गर्भाशय की सफाई करने से पूर्व किन किन बातों का ध्यान रखना चाहिए, गर्भाशय की सफाई कैसे की जाती हैं किन्हें कराना चाहिए? तथा गर्भपात के बाद देखभाल कैसे करें?

Table of Contents

गर्भपात के बाद गर्भाशय की सफाई – गर्भ की सफाई कैसे करें?| Dilation & Curettage in hindi

गर्भपात-के-बाद-गर्भाशय-की-सफाई

डाईलेशन एंड क्यूरेटेज (D&C) एक छोटा सा सर्जिकल प्रोसीजर है जिसे गर्भाशय की सफाई करने के लिए उपयोग किया जाता हैं जैसे – गर्भपात के बाद प्रेगनेंसी अवशेषों को बाहर निकालने, दो मासिक चक्रो के बीच अज्ञात ब्लीडिंग रोकने में…

गायनोकोलॉजिस्ट और ओबट्रीशियंस इस सर्जरी को अपने ऑफिस या क्लीनिक में करते हैं।

डाईलेशन एंड क्यूरेटेज मतलब – D&C means in hindi

डाईलेशन ऑफ द सर्विक्स : डाईलेशन अर्थात खुलान, यहां सबसे पहले महिला की सर्विक्स को डाईलेट (खुलने) दिया जाता है। सर्विक्स (गर्भाशय ग्रीवा) योनि और गर्भाशय को जोड़ने वाला अंग है। नेचुरली सर्विक्स बच्चें के जन्म के समय डाईलेट होता है।

क्यूरेटेज : प्रोसीजर में, एक चम्मच आकार के इंस्ट्रूमेंट को महिला योनि के अन्दर ले जाया जाता हैं इस इंस्ट्रूमेंट का प्रयोग गर्भाशय की दीवार खरोच कर कोशिकाओं को साफ करने में किया जाता है।

गर्भाशय की सफाई (D&C) क्यों किया जाता हैं – dnc kyu kiya jata hai

गर्भाशय की सफाई कराए जाने के निम्न कारण हैं –

  • दो मासिक चक्रों के बीच अज्ञात ब्लीडिंग
  • कैंसर रहित ट्यूमर या फाइब्रॉयड हटाने में
  • संक्रमित ऊतकों को हटाने के लिए
  • गर्भपात के बाद अवांछित पदार्थों को हटाने में
  • गर्भपात के लिए
  • अंतर्गर्भाशयी यंत्र निकालने के लिए ( IUD ) जन्म नियंत्रण यंत्र

किन्हें गर्भाशय की सफाई (D&C) कराना चाहिए

डाईलेशन एंड क्यूरेटेज की आवश्यकता उन लोगों को होती है जिन्हें…

  • जिनका मिसकैरेज हुआ हो
  • गर्भपात के बाद प्रेगनेंसी अवशेष बच गए हों
  • दो मेस्चुरल साइकिल के बीच अज्ञात ब्लीडिंग

कुछ कंडीशन में D&C के साथ हिस्टरोस्कॉपी की जरुरत पड़ती हैं इस प्रोसीजर में डॉक्टर एक डिवाइस सर्विस में इंसर्ट करेंगे जिससे गर्भाशय के अंदर देखा जा सके। D&C के साथ हिस्टरोस्कॉपी तब होता हैं जब डॉक्टर किसी अज्ञात समस्या को खोजने का प्रयास कर रहे हो

गर्भाशय की सफाई से पहले तैयारी – prepration before D&C procedure

सर्जरी से पहले कुछ चीजों का खास ध्यान रखना होता है जिसे डॉक्टर पहले ही बता देंगे… 

  • सर्जरी से पहले टेस्ट किए जाएंगे
  • एनेस्थीसिया की जांच
  • सर्जरी की योजना बनाई जाएगी
  • सर्जरी से पूर्व निर्धारित दवाइयां
  • सर्जरी के पूर्व खाली पेट होना
  • सर्जरी का दिन निश्चीत किया जाएगा
  • सर्जरी से पहले सलाह

डीएनसी प्रोसीजर शुरुआत करने से पहले डॉक्टर महिला की योनि में एक “लैमिनेरिया स्टिक” इंसर्ट करेंगे, जिससे सर्विक्स (गर्भाशय ग्रीवा) खुलने लगता है

लैमिनेरिया स्टिक को कुछ घंटों के लिए वैसे ही छोड़ दिया जाता हैं इस समय महिला उठ कर चल भी सकती है (जब तक लैमिनेरिया स्टिक अंदर है)

ये पतली छड़ी धीरे धीरे सर्विक्स से फ्लूइड अब्सॉरब करता है। जब यह पूर्ण हो जाता है तब सर्विक्स खुल जाता और गर्भाशय दिखने लगता है।

डीएनसी प्रोसीजर में क्या होता है – garbhashy ki safai ke samay kya hota hai

प्रोसीजर के पहले विशेषज्ञ आपको कुछ मेडिसिन देंगे, ये आपको प्रोसीजर के दौरान किसी भी असुविधा से बचाने के लिए है आपको जनरल एनेसथीसिया भी दे दिया जाएगा, जिससे प्रोसीजर के दौरान आप सोए रहेंगी।

ऐसा भी हो सकता, विशेषज्ञ आपको कोई मेडिसिन दें ही ना तथा प्रोसीजर के दौरान आप जगी हुई रहें, प्रोसीजर के समय आपको एक टेबल पर लिटा दिया जाएगा, पैर फैले हुए होंगें, जिससे गायनोकोलॉजिस्ट सही से इंस्पेक्शन कर सकें, जैसे –

  • महिला की योनि में यंत्र ले जाया जाएगा जो सर्विस को ओपन रखने में मदद करेगा
  • क्लैंप्स का यूज, सर्विक्स को इसी अवस्था में रखने के लिए किया जाएगा
  • यह जांचने, सर्विक्स आवश्यकतानुसार खुला है एक सीरीज ऑफ रॉड का प्रयोग किया जाएगा
  • क्यूरेटेज, चम्मच आकार के इस डिवाइस को गर्भाशय के टिशू बाहर निकालने में यूज किया जाता हैं।
  • टिशू के सैंपल लैबोरेट्री एनालिसिस के लिए भेज दिया जाएगा

डीएनसी प्रोसिजर में कितना समय लगता हैं – D&C procedure me kitna samay lagta hai

वैसे प्रोसीजर पूरा होने में 5 से 10 मिनट का ही समय लगता है। लेकिन कुछ केसो में ज्यादा समय भी लग जाता हैं। D&C सर्जरी के बाद कुछ घंटों के लिए रिकवरी रूम में भी इंतजार करना होता हैं जिसके पश्चात ही आप घर जा सकेंगी

क्या D&C सर्जरी में दर्द होता हैं?

सर्जरी के दौरान आप, ऐठन महसूस करेंगी जैसे मासिक धर्म के समय होता है। लेकिन डॉक्टर आपको दर्द के लिए मेडिसिन दे दिए होंगें

गर्भाशय की सफाई के लाभ | advantages of D&C in hindi

D&C कराना यह जानने में मदद करता, क्यों आपको अज्ञात ब्लीडिंग या स्त्राव हो रहा है। इसके जरिए एबनॉर्मल एंडोमेट्रीयल सेल्स का भी पता लगाया जाता है जो यूटरिन कैंसर का कारण होते हैं।

D&C के बाद, जांच के लिए, सैंपल लैबोरेट्री भेज दिया जाता हैं जहां पैथोलॉजिस्ट टिशू के नॉर्मल होने की जांच करते, पॉलिप्स और कैंसर

गर्भाशय की सफाई कराना तब और भी जरूरी होता है जब आपका मिसकैरेज हुआ हो, इससे गर्भाशय से अवांछित पदार्थों को बाहर निकाला जाता है जो हेवी ब्लीडिंग या इन्फेक्शन का कारण बन रहे हो

गर्भाशय की सफाई के नुकसान | risk and disadvantages of D&C

D&C एक सेफ प्रोसीजर है। लेकिन जैसे किसी सर्जरी की तरह इसमें भी कुछ रिस्क होते हैं…

  • संक्रमण
  • गर्भाशय में इन्फेक्शन
  • गर्भाशय से ब्लीडिंग
  • गर्भाशय में छेद
  • एनेस्थीसिया से संबंधित परेशानी
  • गतिविधियां ना करने से रक्त के थक्के बन जाना

कुछ रेयर केसो में, D&C कराने के बाद Ashermans syndrome देखने को मिल सकता है। इस तरह की कंडीशन तब उत्पन्न होती जब स्कार टिशू गर्भाशय में बन गए हो…

स्कार टिशू गर्भाशय की दीवार पर बनते, जब दीवार चिपकाने लगता है। यह कंडीशन इनफर्टिलिटी और मेस्चुरल साइकल बन्द होने का कारण भी बनता है। हालांकि, सर्जरी से इसे ठीक भी कर सकते हैं।

क्या गर्भपात के बाद गर्भाशय की सफाई ( D&C ) कराना चाहिए

लगभग आधी गर्भवतियां, जिनका मिसकैरेज होता है उन्हें D&C कराने की जरूरत नहीं पड़ती, खासकर जब उनका abortion 10 सप्ताह से पहले हुआ हो

यहां शरीर नेचुरली अवांछित पदार्थों को शरीर से बाहर करने में सक्षम होता हैं। तथा इसमें किसी प्रकार की समस्या नहीं आती

10 सप्ताह बाद abortion या मिसकैरेज में असफल गर्भपात होने का खतरा अधिक रहता है। असफल गर्भपात होने की स्थिति में आपको D&C कराने की जरूरत पड़ सकती है जिससे गर्भाशय की सफाई हो सके…

मासिक धर्म गर्भाशय की सफाई के बाद कब आता है

D&C के बाद, अगला पीरियड या तो बहुत जल्दी होगा या बहुत लेट से होगा। इस बीच शारीरिक संबंध बनाने से बचें, जब तक सर्विक्स अपनी सामान्य अवस्था में ना आजाए

इस समय बैक्टीरिया का योनि में प्रवेश तथा इंफेक्शन आने का खतरा रहता है। विशेषज्ञ इसके विषय में उचित सलाह देंगे…

डॉक्टर के पास कब जाएं

D&C के बाद जितनी जल्दी किसी प्रकार के कॉम्प्लिकेशन का पता चलता है, उतनी आसानी से उसे ठीक भी किया जा सकता हैं। 

गर्भाशय की सफाई कराने के बाद अगर आपको असामान्य लक्षण दिखाई पड़े, अपने विशेषज्ञ को इसकी जानकारी अवश्य दें जिससे इलाज जल्द से जल्द किया जा सके।

  • एब्डोमिनल पेन
  • बुखार
  • हेवी ब्लीडिंग
  • तेज ऐठन
  • दुर्गंध के साथ डिस्चार्ज

D&C : गर्भाशय की सफाई के बाद केयर टिप्स  

आपको किसी की जरूरत पड़ेगी जो प्रोसीजर के बाद आपको घर छोड़ सके, हालंकि, D&C के कुछ घंटों बाद आप घर जा सकती हैं।

कुछ दिनों तक हल्का दर्द और हल्की बिल्डिंग भी होगी, 

आपको मेस्चूरल पैड्स यूज करना चाहिए। टेपोंन्स यूज बिल्कुल ना करें, कुछ सप्ताह बाद आप रेगुलर रूटीन में भी आ जाएंगी, चेकअप के लिए विशेषज्ञ से जरूर मिले

D&C प्रोसीजर के बाद रिकवरी इसपर भी निर्भर करता, प्रोसीजर के समय एनेसथीसिया कौन से प्रकार का इस्तेमाल किया गया था…

  • एक-दो दिन आप थका हुआ महसूस करेंगी, हल्की ऐठन भी हों सकती है
  • प्रोसीजर के बाद हल्का रक्त स्त्राव सामान्य है मेस्चूराल पैड्स यूज करें 
  • टेपोंस यूज बिल्कुल ना करें, इससे संक्रमण का खतरा रहता है।
  • असुविधा हो फिर भी हरकत में रहे, इससे रक्त के थक्के जमने से रोका जा सकेगा
  • कुछ दिनों में आप सामान्य रूटीन में आ जाएंगे, नहाने, संभोग और भारी कामों से परहेज करें
  • इसमें गर्भाशय की लाइनिंग साफ किया जाता, अतः लाइनिंग फिर से बनने तथा मासिक धर्म बहुत जल्दी या लेट होगा
  • कैंसर ग्रस्त ट्यूमर जांच के परिणामों का इंतजार करें
  • किसी प्रकार की परेशानी होने पर तुरंत चिकित्सक की मदद ले

Hindiram के कुछ शब्द

गर्भपात के बाद गर्भाशय की सफाई : हालंकि, abortion के बाद परेशानियां अनेकों आ सकती हैं। जितने देरी से abortion होगा, समस्याएं भी उतनी बढ़ेंगी, गर्भाशय की सफाई उन समस्याओं से निजात दिला सकता हैं।

Share on:

Leave a Comment